Type Here to Get Search Results !

Translate

Bewafa Shayari in Hindi

 This type of Shayari arises when a lover breaks the faith of love. We are providing a large collection of the latest Shayari on beware. Read the best collection of bewafa Shayari, disloyalty poetry, beware Shayari in Hindi, bewafa status & SMS. You can share these bewafa Shayari with your girlfriend/boyfriend in SMS form or you can set it as Facebook or WhatsApp status. All Latest Bewafa shayari in hindi, bewafa status, bewafa quotes, bewafa shayari photo, bewafa shayari image, bewafa status in hindi, bewafai ki shayari, bewafa quotes in hindi, bewafai status, bewafa shayari in hindi for girlfriend, bewafai image, sad bewafa shayari, bewafa ki shayari, bewafa shayari status, bewafa shayari in hindi for love, bewafa shayari 2 line, bewafa quotes hindi, very sad bewafa shayari in hindi, bewafa attitude shayari, bewafa sanam shayari, bewafa images hd, bewafa whatsapp status, bewafa dost status, bewafa sms, bewafa love shayari, Etc.


  
All Latest Bewafa shayari in hindi, bewafa status, bewafa quotes, bewafa shayari photo, bewafa shayari image, bewafa status in hindi, bewafai ki shayari, bewafa quotes in hindi, bewafai status, bewafa shayari in hindi for girlfriend, bewafai image, sad bewafa shayari, bewafa ki shayari, bewafa shayari status, bewafa shayari in hindi for love, bewafa shayari 2 line, bewafa quotes hindi, very sad bewafa shayari in hindi, bewafa attitude shayari, bewafa sanam shayari, bewafa images hd, bewafa whatsapp status, bewafa dost status, bewafa sms, bewafa love shayari, Etc.
BEWAFA SHAYARI IN HINDI LATEST.
 
किया अपना बन कर जो तूने सनम; ना गैरों से वो कभी गैर करे; अगर हमें छोड़ कर जाना चाहते हो; जाओ चले जाओ अल्लाह खैर करे।
कदम यूँ ही डगमगा गए रास्ते में; वैसे संभालना हम भी जानते थे; ठोकर भी लगी तो उसी पत्थर से; जिसे हम अपना मानते थे।
कहाँ से ​लाऊ हुनर उसे मनाने का​;​ कोई जवाब नहीं था उसके रूठ जाने का​;​ मोहब्बत में सजा मुझे ही मिलनी थी​;​ क्यूंकी जुर्म मैंने किया ​था ​उससे दिल लगाने का​।
आग दिल में लगी जब वो खफा हुए;​ ​महसूस हुआ तब,​ ​जब वो जुदा हुए​; ​​करके वफ़ा कुछ दे न सके वो​ ​​पर बहुत कुछ दे गए जब वो बेवफा हुए।
ये देखा है हमने खुद को आज़माकर; धोखा देते हैं लोग करीब आकर; कहती है दुनिया पर दिल नहीं मानता; कि छोड़ जाओगे तुम भी एक दिन अपना बनाकार।
बेवफाई उसकी मिटा के आया हूँ; ख़त उसके पानी में बहा के आया हूँ; कोई पढ़ न ले उस बेवफा की यादों को; इसलिए पानी में भी आग लगा कर आया हूँ।
इंसानों के कंधे पर इंसान जा रहे हैं; कफ़न में लिपट कर कुछ अरमान जा रहे हैं; जिन्हें मिली मोहब्बत में बेवफ़ाई; वफ़ा की तलाश में वो कब्रिस्तान जा रहे हैं।
समझ जाते थे हम उनके दिल की हर बात ​को​;​ ​और ​वो हमें हर बार ​धोखा देते थे​;​ लेकिन हम भी मजबूर थे दिल के हाथों​;​ जो उन्हें बार​-​बार मौका देते थे​।
समेट कर ले जाओ अपने झूठे वादों के अधूरे क़िस्से; अगली मोहब्बत में तुम्हें फिर इनकी ज़रूरत पड़ेगी।
नहीं करती थी प्यार तो, मुझे बताया होता; गौर फरमाइएगा; नहीं करती थी प्यार तो, मुझे बताया होता; बुला के पार्क में यूं धोखे से अपने भाइयो से; तो ना पिटवाया होता।
वो बात ही कुछ अजीब थी; वो हमसे रूठ गयी, जो दिल के सबसे करीब थी; उसने तोड़ दिया दिल हमारा; और लोग कहते है वो लड़की बहुत सरीफ थी |
मत बहा आंसुओं में जिंदगी को; एक नए जीवन का आगाज़ कऱ; दिखानी है अगर दुश्मनी की हद तो; ज़िक्र भी मत कर, नज़र अंदाज़ कर।
दिल किसी से तब ही लगाना; जब दिलों को पढ़ना सीख लो; वरना हर एक चेहरे की फितरत में; ईमानदारी नहीं होती।
ठुकरा के उसने मुझे कहा कि मुस्कुराओ; मैं हंस दिया सवाल उसकी ख़ुशी का था; मैंने खोया वो जो मेरा था ही नहीं; उसने खोया वो जो सिर्फ उसी का था।
वफाओं ​की बातें की हमने जफ़ाओं के सामने​;​ ​ ले चले हम चिराग़ हवाओं के सामने​;​ ​ उठे हैं जब भी हाथ बदली हैं क़िस्मतें​; ​ मजबूर है ​खुदा भी दुआओं के सामने​।
ऐसा नहीं कि आप हमें याद नहीं आते; माना कि जहाँ के सब रिश्ते निभाये नहीं जाते; पर जो बस जाते हैं दिल में वो भुलाए नहीं जाते; बेवफाओं से हर तरह के रिश्ते निभाये नहीं जाते।
उसके चेहरे पर इस कदर नूर था; कि उसकी याद में रोना भी मंज़ूर था; बेवफ़ा भी नहीं कह सकते उसको फराज़; प्यार तो हमने किया है वो तो बेक़सूर था।
जनाजा मेरा उठ रहा था; फिर भी तकलीफ थी उसे आने में; बेवफा घर में बैठी पूछ रही थी; और कितनी देर है दफनाने में!
हर धड़कन में एक राज़ होता है; बात को बताने का एक अंदाज़ होता है; जब तक ठोकर न लगे बेवाफ़ाई की; हर किसी को अपने प्यार पर नाज़ होता है।
दो दिलों की धड़कनों में एक साज़ होता है; सबको अपनी-अपनी मोहब्बत पर नाज़ होता है; उसमें से हर एक बेवफा नहीं होता; उसकी बेवफ़ाई के पीछे भी कोई राज होता है!
लगाया है जो दाग तूने हमें बेवफ़ा सनम; हाय मेरी पाक मुहब्बत पर; लगाये बैठे हैं इसे अपने सीने से हम; प्यार की निशानी समझ कर।
हम तो तेरे दिल की महफ़िल सजाने आए थे; तेरी कसम तुझे अपना बनाने आए थे; किस बात की सजा दी तुने हमको बेवफा; हम तो तेरे दर्द को अपना बनाने आए थे।
चाँद निकलेगा तो दुआ मांगेंगे; अपने हिस्से में मुकदर का लिखा मांगेंगे; हम तलबगार नहीं दुनिया और दौलत के; हम रब से सिर्फ आपकी वफ़ा मांगेंगे!
60.
मेरी तक़दीर में जलना है तो जल जाऊँगा तेरा वादा तो नहीं हूँ जो बदल जाऊँगा मुझको समझाओ न मेरी जिंदगी के असूल एक दिन मैं खुद ही ठोकर खा के संभल जाऊँगा!!
59.
मत ज़िकर कीजिये मेरी अदा के बारे में मैं बहुत कुछ जानता हूँ वफ़ा के बारे में सुना है वो भी मोहब्बत का शोक़ रखते हैं जो जानते ही नहीं वफ़ा के बारे में!!
58.
फ़र्ज़ था जो मेरा निभा दिया मैंने उसने माँगा वो सब दे दिया मैंने वो सुनके गैरों की बातें बेवफ़ा हो गयी समझ के ख्वाब उसको आखिर भुला दिया मैंने!!
57.
प्यार करने का हुनर हमें आता नहीं इसीलिए हम प्यार की बाज़ी हार गए हमारी ज़िन्दगी से उन्हें बहुत प्यार था शायद इसीलिए वो हमें ज़िंदा ही मार गए!!
56.
ना पूछ मेरे सब्र की इंतेहा कहाँ तक है कर ले तू सितम तेरी हसरत जहाँ तक है वफ़ा की उम्मीद जिन्हें होगी उन्हें होगी हमें तो देखना है तू बेवफ़ा कहाँ तक है!!
55.
तेरे इश्क़ ने दिया सुकून इतना कि तेरे बाद कोई अच्छा न लगे तुझे करनी है बेवफाई तो इस अदा से कर कि तेरे बाद कोई बेवफ़ा न लगे!!
54.
तेरी दोस्ती ने दिया सकूं इतना की तेरे बाद कोई अच्छा न लगे तुझे करनी है बेवफ़ाई तो इस अदा से कर कि तेरे बाद कोई भी बेवफ़ा न लगे!!
53.
ज़िन्दगी से बस यही गिला है ख़ुशी के बाद क्यों ये गम मिला है हमने तो उनसे वफ़ा की थी पर नहीं जानते थे कि बेवफाई ही वफ़ा का सिला है!!
52.
कोई भी नहीं यहाँ पर अपना होता इस दुनिया ने ये सिखाया है हमको उसकी बेवफाई का ना चर्चा करना आज दिल ने ये समझाया है हमको।
51.
किया अपना बन कर जो तूने सनम ना गैरों से वो कभी गैर करे अगर हमें छोड़ कर जाना चाहते हो जाओ चले जाओ अल्लाह खैर करे!!
50.
कभी हम भी इसके क़रीब थे दिलो जान से बढ़ कर अज़ीज थे मगर आज ऐसे मिला है वो कभी पहले जैसे मिला ना हो!!
49.
ऐसा नहीं कि आप हमें याद नहीं आते माना कि जहाँ के सब रिश्ते निभाये नहीं जाते पर जो बस जाते हैं दिल में वो भुलाए नहीं जाते बेवफाओं से हर तरह के रिश्ते निभाये नहीं जाते!!
48.
एक ख़ुशी की चाह में हर ख़ुशी से दूर हुए हम किसी से कुछ कह भी ना सके इतने मज़बूर हुए हम ना आई उन्हें निभानी वफ़ा इस दौर-ए-इश्क़ में और ज़माने की नज़र में बेवफ़ा के नाम से मशहूर हुए हम!!
47.
उन्होंने जो किया ये शायद उनकी फितरत है!! अपने लिये तो प्यार एक इबादत है!! न मिले उनसे तो मरकर बता देंगे!! कि कितनी मुहब्बत है इस दिल में!!
46.
इंसानों के कंधे पर इंसान जा रहे हैं कफ़न में लिपट कर कुछ अरमान जा रहे हैं जिन्हें मिली मोहब्बत में बेवफ़ाई वफ़ा की तलाश में वो कब्रिस्तान जा रहे हैं!!
45.
आग दिल में लगी जब वो खफा हुए महसूस हुआ तब जब वो जुदा हुए करके वफ़ा कुछ दे न सके वो पर बहुत कुछ दे गए जब वो बेवफा हुए!!
44.
अगर दुनिया में जीने की चाहत ना होती तो खुदा ने मोहब्बत बनाई ना होती लोग मरने की आरज़ू ना करते अगर मोहब्बत में बेवाफ़ाई ना होती!!
43.
ठुकरा के उसने मुझे कहा कि मुस्कुराओ मैं हंस दिया सवाल उसकी ख़ुशी का था मैंने खोया वो जो मेरा था ही नहीं उसने खोया वो जो सिर्फ उसी का था!!
42.
वक्त के इस मोड़ पे कैसा वक्त आया है झखम इस दिल का जुबां पे आया है नहीं रोते थे हम काँटों की चुभन से आज फूलों की चुभनने हमको रुलाया है !!
41.
शाम उदास थीसुबह उदास थी कफ़न में लिपटी मेरी लाश थी ए मेरे दोस्तों मुझे वहीँ दफनाना जहाँ उनसे पहली मुलाक़ात हुई थी !!
40.
झख्म इतना गहरा है की इजहार क्या करे हम खुद निशान बन गए वार क्या करे मर गए हम मगर खुली रही आँखें अब इससे ज्यादा उनका इन्तजार क्या करे !!
39.
हम उसे भूल कर भी नहीं जी सकते हम उसे याद करके भी नहीं जी सकते मर जाते कब के उनके बिना पर क्या करे उनकी बाहों के बिना मर भी नहीं सकते !!
38.
कदम यूँ ही डगमगा गए रास्ते में वर्ना संभलना हम भी जानते थे ठोकर भी लगी तो उस पत्थर से जिसे हम अपना खुदा मानते थे !!
37.
यूँ तो कोई तनहा नहीं होता छह कर भी कोई जुदा नहीं होता मोहब्बत को तो मजबूरियां ही ले डूबती है वरना ख़ुशी से कोई बेवफा नहीं होता !!
36.
जख्म जब मेरे सीने के भर जायेंगें आसूं भी मोती बन कर बिखर जायेंगें मत पूछना किस-किस ने धोखा दिया वर्ना कुछ अपनों के चेहरे उतर जायेंगें !!
35.
सदियों से जागी आँखों को एक बार सुलाने आ जाओ माना कि तुमको प्यार नहीं नफ़रत ही जताने आ जाओ जिस मोड़ पे हमको छोड़ गए हम बैठे अब तक सोच रहे क्या भूल हुई क्यों जुदा हुए बस यह समझाने आ जाओ !!
34.
मत ज़िकर कीजिये मेरी अदा के बारे में मैं बहुत कुछ जानता हूँ वफ़ा के बारे में सुना है वो भी मोहब्बत का शोक़ रखते हैं जो जानते ही नहीं वफ़ा के बारे में !!
33.
मर जाऊं मैं अगर तो आंसू मत बहाना बस कफ़न की जगह अपना दुपट्टा चढ़ा देना कोई पूछे की रोग क्या था तो सर झुका कर मोहब्बत बता देना !!
32.
ज़िन्दगी से बस यही गिला हैं ख़ुशी के बाद क्यूँ गम मिला हैं हमने तो उनसे वफ़ा की थी पर नहीं जानते थे वफ़ा के बेवफाई ही सिला हैं !!
31.
क्यूँ ख़त लिखती हो अब चाहत कैसी ? जब जुदा हो ही गई हो तो महोब्बत कैसी ? मुझे तो तुम्हारी वफाओं पर बड़ा नाज था तू बेवफा निकली तो तुजसे अब शिकायत कैसी ?
30.
अब तो खुदा पर भी एतबार नहीं अपनी जिन्दगी से भी प्यार नहीं तू कभी भूल से भी हमें प्यार करे तेरी कसम हमें इसका एतबार नहीं !!
29.
जो फरेब खाए मैंनेतुझे राजदां समजकर उन्हें कैसे भूल जाऊंमैं एक दास्ताँ समजकर मुझे गौर से ना देखोमैं वो नामुराद दिल हु जिसे तूने रोंद डालाएक बेजुबां समजकर !!
28.
एक ख़ुशी भी इनायत ना हुई याद रहे साकिया जाते हैमहेफिल तेरी आबाद रहे तेरे सारे गम खुदा मुझे दे दे ए सनम चाहे मैं नाशाद रहूतू हमेशा शाद रहे !!
27.
अपने बेवफा दिल को सैमझा रहे है वो और आंसू बेहिसाब बहा रहे है वो मेरे खुदा मुझे थोड़ी जिन्दगी और दे दे उदास मेरे जनाजे से जा रहे है वो !!
26.
बेवफा तूने वफ़ा को छोड़ दिया क्या कमी थी जो मुझसे मुह मोड़ लिया ? शायद बेवफाई करने में तुमको आता है मजा मुजको छोड़कर गैरो से नाता जोड़ लिया !!
25.
जी ते जी ना ही सही मुझे मार कर ही सुकून पाएगी आज साथ ले चल मुझे ए बेवफा कल तो मेरी मैयत उठा ली जायेगी !!
24.
जब जब मुझसे मिलने को उसने कदम बढ़ाये होंगे अहम् के जाने कितने पत्थर उन राहों में आये होंगे प्रेम के कितने ही प्रसून खिले और मुरझाये होंगे कब सोचा था दिल में बसनेवाले इस कदर पराये होंगे !!
23.
तुझे भूला कर भी न भूल पाएं हम बस यही एक वादा नहीं निभा पाएं हम मिटा देगे खुद को भी जान से लेकिन तेरा नाम दिल से न मिटा पाएंगे हम !!
22.
सदमा तो है मुझे भी कि तुझसे जुदा हूं मैं लेकिन ये सोचता हूं कि अब तेरा क्या हूं मैं बिखरा पड़ा है तेरे ही घर में तेरा वजूद बेकार महफिलों में तुझे ढूंढता हूं मैं !!
21.
जब मुझसे मोहब्बत ही नहीं तो रोकते क्यूं हो? तन्हाई में मेरे बारे में सोचते क्यूं हो ? जब मंजिले जुदा है तो जाने दो मुझे लौट के कब आओगे ये पूछते क्यों हो ?
20.
पी कर रात में उनको भुलाने लगे गम को शराब में मिलाने लगे ये शराब भी बेवफा निकली यारो वो तो हमें और भी याद आने लगे !!
19.
प्यार में हमारे सब्र का इम्तेहा तो देखो वो मेरी बाहों में सो गई रोते-रोते किसी और के लिए !!
18.
कोई ऐसी सजा दो मुझको चलो भुला दो मुझको। तुम से जुदा हूं तो मौत आ जाए दिल की गहराईयों से ये दुआ दो मुझको !!
17.
रोने की सजा न रुलाने की सजा है ये दर्द मुहब्बत को निभाने की सजा है हंसते हैं तो आंखो से निकल आते हैं आंसू ये उस शख्स से दिल लगाने की सजा है !!
16.
मौत मांगते हैं तो जिन्दगी खफा हो जाती है जहर लेते हैं तो वो भी दवा हो जाती है तू ही बता ऐ दोस्त क्या करूं जिसे भी चाहा वो बेवफा हो जाती है !!
15.
Woh Koi Aur Hi Tha Jise Tumse Wafa Ki Ummeed Thi, Hume Toh Bus Ye Dekhna Hai Ki Tum Bewafa Kab Tak Ho...
14.
Teri mohbbat ki inteha dekhi ke lahoo ke har zarre mein tu daudta hai, aur teri bewafai ki inteha bhi dekhi ke khwabon mein bhi tanha chodta hai.
13.
Ret Pe Naam Kabhi Likhte Nahin; Kyonki Ret Pe Likhe Naam Kabhi Tikte Nahin; Aap Kehte Ho Tum Patthar Dil Ho; Par Patthar Pe Likhe Naam Kabhi Mitte Nahin!
12.
Agar Mohabbat Ki Tijarat Ka Itna Shoq Hai To Ye Baat Bhi Jaan Lo Wasi. Yahan Wafa Ka Koi Mol Nahi Hota Or Bewafa Bohat Anmol Hote Hen.
11.
Farz tha jo mera nibha diya maine usne jo manga vo sab diya maine Wo sunke gairon ki baten bewafa ho gaya samajh k khwab usko akhir bhula diya maine.
10.
Lash meri uth rahi thi mere ashiyane se, fir b takleef thi unko mere ghar tak ane me, woh bewafa ghar me baithe hi puch rahe the or kitni der baaki hai usey jalane me.
9.
Saanse bhi chubti hai or dil bhi rota hai, uss bewafaa pe ye deewana aaj bhi marta hai, duri uski mujhe aaj bhi sataati hai, uske diye jakhm ke nisaan aaj bhi baaki hai.
8.
Kar ke bewafai muskurate hey woh dil, tut ta hey to sharmate hey wo zakhm, dil ka nahi dekh paate hey wo tabhi to is jahan me dilruba kahlata hey wo.
7.
Sagar ki lehro ka kinara na raha, manzil thi par thikana na raha, chalte chalte raste yu kho gaye jo hamara tha ab hamara na raha.
6.
Aaj Achanak Teri Yaad Ne Mujhe Rula Diya; Kya Karu Tum Ne Jo Mujhe Bhula Diya; Na Karte Wafa To Na Milti Ye Saza; Shayad Meri Wafaon Ne Hi Tujhe Bewafa Bana Diya!
5.
Tamanna jab kisee kee naakaam hotee hai jindagee us kee ek udaas shaam hotee hai dil ke saath daulat na ho jiske paas mohabbat us gareeb kee nilaam hotee hai !!

4.
Aajma kar dekhiye har shakhs ko duniya mein, vo pahle wafa dikhaate hain phir daga karate hain wafa karate hain taaki aitabaar vo paa le phir bewafai ka pharj vo ada karte hain !!

3.
Karoge yaad ek din dostee ke jamaane ko ham chale jayenge, ek din kabhee na vaapas aane ko jikr jab chhed dega koee mahphil mein hamaara, chale jaoge tum bhee tanhaee mein aansoo bahaane ko !!

2.
Hamne bhee kabhee pyaar kiya tha thoda nahee beshumaar kiya tha dil toot kar rah gaya jab usne kaha are mainne to majaak kiya tha !!

1.
Shayari nahin aatee mujhe bas haale dil Suna raha hoon bevaphaee ka iljaam hai Mujhpar phir bhee gunguna rahee hoon katl karne vaale ne kaatil bhee hamen hee bana diya khapha nahin usse phir bhee main bas uska daaman bacha raha hoo !!

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.